Advertisements

30+ Chai Shayari | Best Chai Lover Shayari in Hindi

दोस्तों अगर आप भी चाय के शौकीन है तो आज हम आपके लिए कुछ बेहरारीन Chai Shayari लेकर आये है। देखा जाए तो चाय पीने का अलग ही मजा है। अक्सर लोग चाय के साथ अपनी फोटो सोशल मीडिया पर शेयर करते। चाय से लोगों को इस कदर मोहब्बत हो जाती है कि वह चाह कर भी इनसे दूर नहीं जा पाते।

यदि आपको भी चाय ये मोहब्बत हैं तो यह खास Chai Shayari in Hindi आपको बेहद पसंद आने वाली है। इस पोस्ट में आपको बेहरारीन गरमा गरम चाय पर शायरी मिलेंगी जिन्हें आप अपने सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है।

 

 

Advertisements
मेरे जज्बातों का कोई तो सिला दो,
कभी घर बुला के चाय तो पिला दो।
Mere jazbaato ka koi to sila do,
kabhi ghar bula ke chai to pila do.

 

Chai Shayari

Chai Shayari

जब सुबह तेरे प्यार के नग्में को गुनगुनाता हूं,
लब मुस्कुराते है जब चाय का कप उठाता हूं।
Jab subah tere pyar ke nagme ko gungunata hu,
lab muskurate hai jab chai ka kap uthata hu.

 

ठण्ड का मौसम हो और
किसी की यादे हो सीने में,
फिर ऐसे मौसम में मजा आता है,
गर्मा गरम चाय पीने में।
Thand ka mausam ho aur,
kisi ki yaade ho sine mein,
fir aise mausam mein maza aata hai,
garm chai peene main.

 

किसको बोलूँ हेलो और किसको बोलू हाय,
हर टेंशन की एक ही दवा है अदरक वाली चाय।
Kisko bolu hello aur kisko bolu hii,
har tension ki ek hi dawa adrak wali chai.

 

भाड़ में जाए ये दुनियादारी,
सबसे प्यारी चाय हमारी।
Bhaad mein jaaye ye duniyadari,
sabse pyari chai hamari.

 

मिलों कभी चाय पर फिर हम कोई किस्से बुनेंगे,
तुम खामोशी से कहना हम चुपके से सुनेंगे।
Milo kabhi chai par fir hum koi kisse bunege,
tum khamoshi se kahna hum chupke se sunege.

 

ना पूछो रिश्ता कैसा चाय से बन गया है,
बेहद उम्दा और लाजवाब बन गया है।
Na puchho rishta kaise chai se ban gaya hai,
behad umda aur lajawaab ban gaya hai.

 

चाय की चुस्की के साथ,
अक्सर कुछ गम भी पीता हूं,
मिठास कम है जिंदगी में,
मगर जिंदादिली से जीता हूँ।
Chai ki chuski ke sath,
aksar kuch gam bhi pita hu,
mithas kam hai zindagi mein,
magar zindadili se jeeta hu.

 

Best Chai Shayari 

Chai Shayari

सभी सिसकियों की हाय लाया हूं,
अहल-ए-गम बैठों देखो मैं चाय लाया हूं।
Sabhi siskiyon ki haay laya hu,
ahal ye gam baitho dekho main chai laya hu.

 

ना इश्क ना कोई राय चाहिए,
सर्द मौसम है बस चाय चाहिए।
Na ishq na koi raay chahiye,
sard mausam hai bas chai chahiye.

 

कलम, कागज़ और एक कप चाय हो,
वक्त गुजारने का बस यही उपाय हो।
Kalam kagaz aur ek cup chai ho,
waqt guzarne ka bas yahi upay ho.

 

आशिको की आशिक़ी वो यारों की यारी,
वो सिर्फ चाय नहीं जान है हमारी।
Aashiqo ki aashiqi wo yaaro ki yaari,
wo sirf chai nahi jaan hai hamari.

 

यादों में आप और हाथ में चाय हो,
फिर उस सुबह की क्या बात हो।
Yaado mein aap aur hath mein chai ho,
fir us subah ki kya baat ho.

 

मेरा हर सिर दर्द दूर भाग जाता है,
जब जब चाय का नाम आ जाता है।
Mera har dard door bhag jata hai,
jab jab chai ka naam aa jata hai.

 

एक कप चाय दो दिलों को मिला देती है,
एक कप चाय दिन भर की थकान मिटा देती है।
Ek cup chai do dilo ko mila deti hai,
ek cup chai din bhar ki thakan mita deti hai.

 

Chai Shayari in Hindi

Chai Shayari

वो पल भी कोई पल है,
जिस पल तेरा एहसास ना हो,
वो चाय फिर चाय कैसी,
जिसमें तेरे होठों की मिठास ना हो।
Wo pal bhi koi pal hai,
jis pal tera yehsas na ho,
wo chai fir chai kaisi,
jisme tere hotho ki mithas na ho.

 

ज़िन्दगी वही जीते है,
जो गर्मी में भी चाय पीते है।
Zindagi wahi jeete hai,
jo garmi mein bhi chai peete hai.

 

जितना उबलती है वो उतनी बेहतर लगती है,
ये चाय भी ना गुस्से वाली बाबू जैसे लगती है।
Jitna ubalti hai wo utni behtar lagti hai,
ye chai bhi na gusse wali babu jaisi lagti hai.

 

ना तख्त चाहिए ना ताज चाहिए,
मुझे मेरी चाय और चाय का हिसाब चाहिए।
Na takht chahiye na taaj chahiye,
mujhe meri chai aur chai ka hisaab chahiye.

 

ना चांद ला पाऊंगा, 
ना सितारे तोड़ पाऊंगा,
मैं आम आदमी हूं यार, 
तुम्हें अपने हाथ की चाय पिलाऊंगा।
Na chand la paunga,
na sitare tod paunga,
main aam aadmi hu yaar,
tumhe apne hath ki chai pilaunga.

 

लोगों की दोस्ती पे शक होने लगा है,
क्योंकि चाय पिने वाला अब कॉफी पिने लगा है।
Logo ki dosti pe ab shak hone laga hai,
kyuki chai pine wala ab coffee pine laga hai.

 

चाय भर कर टपरी वाले ग्लास में,
कब से बैठा हूं तेरे आने की आस में।
Chai bhar kar tapti wale glass mein,
kab se baitha hu tere aane ki aas mein.

 

Best Chai Shayari Hindi

Chai Shayari

जब ये चाय मेरे लबों को छू लेते है,
तो हम एक पल में सदियां जी लेते है।
Jab ye chai mere labo ko chhu lete hai,
to hum ek pal mein sadiya jee lete hai.

 

मायूस चेहरे उस वक्त खिलेंगे,
जब सारे दोस्त चाय पर मिलेंगे।
Mayus chehre us waqt khilenge,
jab saare dost chai par milenge.

 

ये जो चाय से इतनी मोहब्बत है,
कसम से ये सब तुम्हारी बदौलत है।
Ye jo chai se itni mohabbat hai,
kasam se ye sab tumhari badaulat hai.

 

काश कि हम चाय हो जाते,
वक्त बेवक्त तुम्हें याद तो आते।
Kash ki hum chai ho jaate,
waqt bewaqt tumhe yaad to aate.

 

कुछ इस तरह से शक्कर को बचा लिया करो,
जब चाय पीयो तो हमें भी बुला लिया करो।
Kuch is tarah se shakkar ko bacha liya karo,
jab chai piyo to hume bhi bula liya karo.

 

आदत नहीं ये तो ला इलाज बीमारी है,
चाय से मेरी कुछ इस कदर यारी है।
Aadat nahi ye to la ilaj bimari hai,
chai se meri kuch is kadar yaari hai.

 

मैं बन जाऊं चाय की पत्ती,
तुम बन जाओ शक्कर के दाने,
कोई तो मिलाएगा हमें चाय पीने के बहाने।
Main ban jaau chai ki patti,
tum ban jaao shakkar ke daane,
koi to milayega hume chai peene ke bahane.

 

Hindi Chai Shayari 

Chai Shayari

अब तो चाय को भी खुद पर गुरुर होता है,
जानती है वो कि हम पर उसका सुरूर होता है।
Ab to chai ko bhi khud par gurur hota hai,
Jaanti hai wo ki hum pe uska surur hota hai.

 

आज फिर चाय की मेज़ पर,
एक हसरत बिछी रह गयी,
प्यालियों ने तो लब छू लिए,
और केतली देखती रह गयी।
Aaj fir chai ki mez par,
ek hasrat bichhi rah gayi,
pyaliyo ne to lab chhu liye,
aur ketli dekhti rah gayi.

 

कड़क ठंडक में कड़क चाय का मज़ा,
शराबी क्या जाने चाय का नशा।
Kadak thandak mein kadak chai ka maza,
sharabi kya jaane chai ka nasha.

 

चस्का जो लग जाएं एक बार,
तो हर दफ़ा काम आएगी,
ये चाय है यारों मोहब्बत नहीं,
जो बेवफा हो जाएगी।
Chaska jo lag jaaye ek baar,
to har dafa kaam aayegi,
ye chai hai yaaro mohabbat nahi,
jo bewafa ho jaayegi.

 

ठंड बहुत है कोई ज्ञान नहीं बांटेगा,
जिसको बांटनी है वो सिर्फ चाय बांटेगा।
Thand bahut hai koi jyan nahi batega,
jisko baantani hai wo sirf chai batega.

 

ज़िन्हे चाय से लगाव होता है
उसके दिल में जरूर घाव होता हैं।
Jinhe chai se lagaw hota hai,
uske dil mein jarur ghaw hota hai.

 

उसने कहा चाय में चीनी कितनी लीजियेगा,
हमने कहा बस आप एक घूट पी के दीजिये।
Usne kaha chai mein chini kitni lijiyega,
humne kaha bas aap ek ghut pi ke dijiyega.

 

चाय के कप से उड़ते धुंए में,
मुझे तेरी शक़्ल नज़र आती है,
तेरे इन्ही ख़यालों में खोकर,
मेरी चाय अक्सर ठंडी हो जाती है।
Chai ke cup se udte dhuye mein,
mujhe teri shaql nazar aati hai,
tere inhi khayalo mein khokar,
meri chai aksar thandi ho jaati hai.
 
 
इन्हें भी पढ़े:-
 
 

दोस्तों हम आशा करते है कि आपको ये Chai Shayari पसंद आई होगी। अगर आपको यह चाय शायरियां अच्छी लगी हो, तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। आपके मन में कोई सवाल या विचार हो तो आप Comments के माध्यम से पूछ सकते है।

Leave a Comment